परिंदे सोच में हैं


परिंदे सोच में हैं
इतनी खामोशी, आखिर कैसे आई
दिन भर के हो-हल्ले से, चुप्पी कैसे छाई
पुहुप भी साक्षी होकर, कर रहे अगुवाई
इंसान की दशा हुई है कैसी
अब किससे करे
लडाई?

~ऋषभ कुमार

14 thoughts on “परिंदे सोच में हैं

  1. बहुत सुंदर । आप मेरी साइट भी विज़िट कर लाइक और कमेंट कर बताएं कि मेरा प्रयास कैसा है 🙏🙏

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.