क्या धन ही है आधार जगत का?


क्या धन ही है आधार जगत का?
या कोई अब नहीं रहा श्रवण सा!
क्या नही है कोई हाथ मदद का?
या करते है सब स्वार्थ रमण का!
क्या दोष ही है अब बचा धरा पर?
या होता नहीं कही काम पुण्य का!
क्या करता नहीं कोई धर्म की रक्षा?
या माँगता हर कोई भूख में भिक्षा!
क्या कर्म की चिंता, लाज ना कोई?
या जगत में व्यथा का साथ ना कोई!

Hey there, well thanks for reading this, and do tell your thoughts.

Thank you again.
Happy blogging.

You can also join myjoopress at Facebook Twitter Instagram

12 thoughts on “क्या धन ही है आधार जगत का?

  1. सही कहा…

    वैसे तो व्यक्ति की कद्र
    केवल गुणों से होती है
    पर गुणों की परख भी
    धन के बगैर कहाँ होती है✍️
    #kavyakshra

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.