रास्ते मंजिल और जाने क्या


रास्ते मंजिल और जाने क्या
छोड़ आए हैं हम न जाने कहाँ
है वास्ता खुदी से ना किसी से यारी
चल रहे हैं हम हो दुखी संसारी
है पता कि गम है बाँटते नहीं हैं
खुद में हो परेशान वजह जाँचते नहीं हैं
क्षण भर की छाँव को समझते अपनी चादर
गागर भर की चाह भी लगती है सागर
भान रखते मान का चाहे होती परवाह
तारों सा जीवन अपनों से माँगते नहीं हैं
दिल से हैं हम नादान शायद मानते नहीं हैं
-ऋषभ कुमार

आराम तो नहीं, ‌कमाई बहुत होती है
हर गरीब के घर ‌शायद रजाई नहीं होती है
तन ढकने को चादर, सर पर छत भी ‍‌‍ख्वाब होता है
तमीज तो नहीं शब्दों की, पर दिल का मिलनसार होता है
कमाई पैसों से कम, इंसानियत की सच्ची तस्वीर सा
जब दे दे ज़ुबान, निभाए, भले हो फ़कीर सा
कईयों में शायद, किसी एक का नाम होता है
पर गरीब के घर सचमुच, कोई दूसरा ही जहान होता है
-ऋषभ कुमार

-rishabh kumar
©rishabh_myjoopress
COPYRIGHT © 2020
ALL RIGHTS RESERVED


—:You can also follow me through:—

FacebookTwitterInstagram

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.